इसरो के सेटेलाइट से बना सुरक्षा रोडमैप !!!

1
346
ISRO
ISRO News

भारत की अंतरिक्ष एजेंसी ISRO (Indian Space Research Organisation) ने मुजफ्फरपुर में पिछले 22 साल में बाढ़ के प्रकोप की दशा-दिशा का सेटेलाइट डाटा जारी किया है। इसरो ने यह डाटा राज्य सरकार को उपलब्ध कराया है। इसके आधार पर बाढ़ से बचने का रोड मैप भी तैयार हो रहा है। इसका उद्देश्य जिले को बाढ़ से बचाना व बाढ़ की स्थिति में जान-माल की क्षति को कम करना है।
चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 1,500 से ज्यादा हुई।

ISRO ने राज्य सरकार के आपदा विभाग को सेटेलाइट डाटा उपलब्ध कराया है। इसके जरिए जिले में बाढ़ की भयावहता को दर्शाया है। इसरो ने बताया है कि जिले के 54 गांव वेरी हाई रिस्क जोन, 46 गांव हाई रिस्क जोन व 79 गांव मॉडरेट फ्लड हजार्ड जोन में हैं। इसके अलावा जिले के 197 गांवों में बाढ़ का निम्न खतरा व 906 गांवों में अति निम्न खतरा पाया गया है। यह डाटा सूबे के बाकी जिलों के लिए भी मुहैया कराया गया है।आपदा प्रबंधन विभाग के अपर सचिव एम रामचंद्रुडु ने बताया कि सभी प्रभावित जिलों को डाटा उपलब्ध करा दिया गया है। बाढ़ से प्रभावित होने वाले पांच श्रेणी के गांाव भी चिह्नित किए गए हैं।
इसरों ने सभी 38 जिलों का सेटेलाइट डाटा व मैप जारी किया है। इस आधार पर जिलों को बाढ़ से होने वाली क्षति से से बचने को रोडमैप तैयार हो रहा है।
उत्तर प्रदेश के दो जिलो में लागू हुआ मेट्रोपोलिटन सिस्टम ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here