मोदी सरकार ने रखा प्रस्ताव, इलेक्ट्रिक वाहनों पर अब नहीं लगेगा रजिस्ट्रेशन चार्ज

0
537
electric vhical image for site

देश में इलेक्ट्रिक वाहनों/Electric vehicles को बढ़ावा देने के लिए सरकार लगतार कदम उठा रही है तथा अधिक से अधिक लोगों को इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने के लिए प्रोत्साहित कर रही है। यह कदम भी ऐसे समय पर उठाये जा रहे है जब भारत में इसकी शुरुआत हो रही है।

अभी हाल ही में नीति आयोग ने प्रस्ताव भी रखा था कि देश में 2030 के बाद से सिर्फ इलेक्ट्रिक वाहन/Electric vehicles ही चलाये जाए तथा अन्य वाहनों को धीरे धीरे बंद कर दिया जाए। यह भी खबर आयी थी कि 2025 के बाद से भारत में 150cc से कम क्षमता वाले इलेक्ट्रिक वाहन बंद कर दिए जाएंगे।

इलेक्ट्रिक वाहनों की मांग भी धीरे धीरे बाजार में बढ़ती जा रही है और इसी बीच भारत की पूर्ण रूप से इलेक्ट्रिक तथा आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस/Artificial Intelligence तकनीक वाली पहली बाइक को पेश किया गया है तथा आने वाले दिनों में इसे लॉन्च भी कर दिया जाएगा। और तो और अब सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहनों के रजिस्ट्रेशन चार्ज को खत्म करने का प्रस्ताव पेश किया है। इसके साथ ही रिन्यूवल/Renewal के लिए भी कोई चार्ज नहीं वसूलने का प्रस्ताव रखा गया है। इसके लिए सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने एक अधिसूचना भी जारी की है।

मंत्रालय ने अधिसूचना में कहा है कि बैटरी से चलने वाले वाहनों के पंजीयन प्रमाण पात्र जारी करने तथा उनके नवीनीकरण करने को शुल्क के दायरे के बाहर रखा जायेगा। अर्थात नए वाहन की खरीदी के समय रजिस्ट्रेशन कराने पर आपको कोई चार्ज नहीं अदा करना पड़ेगा।


यह प्रस्ताव दो पहिया, तीन पहिया सहित सभी प्रकार के इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए प्रभावी होगा। चार पहिया सहित बस आदि के लिए भी अब कोई चार्ज देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। जल्द ही केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम में इसका संसोधन किया जाएगा।
इसके साथ ही आने वाले दिनों में मोदी सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों पर जीएसटी को 12 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत पर ला सकती है। 

इस कदम के साथ भारत में बाहरी कंपनियों को भी इलेक्ट्रिक वाहन बेचने के लिए प्रोत्साहित करना है। भारत सरकार कम से कम टैक्स रखकर भारतीय बाजार में विदेशी कंपनियों के इलेक्ट्रॉनिक वाहन को बाजार में हिस्सेदारी को और बढ़ाना देना चाहती है।

भारत सरकार द्वारा लगातार इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के पक्ष में कदम उठाये जा रहे हैं। भारत की बड़ी कार कंपनिया भी इस क्षेत्र में आगे बढ़ रही है, तथा महिंद्रा जैसी कंपनी इलेक्ट्रिक वाहन के मामलें में अग्रसर है।

वर्ष 2018-19 में महिंद्रा के इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री में 2.5 गुना बढ़त दर्ज की गयी है। तथा कंपनी इसे और बड़े स्तर पर बढ़ाने को अपना लक्ष्य लेकर चल रही है। पिछले साल कंपनी ने इस क्षेत्र में आगामी तीन सालों में 1000 करोड़ रुपयें निवेश करने की घोषणा की थी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here